Baarish Aane Se Pehle (Gulzar Poems Hindi)

बारिश आने से पहले | Baarish Aane Se Pehle – Beautiful Poem (Nazm) by Gulzar in Hindi

बारिश आने से पहले
बारिश से बचने की तैयारी जारी है
सारी दरारें बन्द कर ली हैं
और लीप के छत, अब छतरी भी मढ़वा ली है
खिड़की जो खुलती है बाहर
उसके ऊपर भी एक छज्जा खींच दिया है
मेन सड़क से गली में होकर, दरवाज़े तक आता रास्ता
बजरी-मिट्टी डाल के उसको कूट रहे हैं !
यहीं कहीं कुछ गड़हों में
बारिश आती है तो पानी भर जाता है
जूते पाँव, पाँएचे सब सन जाते हैं
गले न पड़ जाए सतरंगी
भीग न जाएँ बादल से
सावन से बच कर जीते हैं
बारिश आने से पहले
बारिश से बचने की तैयारी जारी है !!

‘Baarish Aane Se Pehle’ – Gulzar Poetries in Hindi

 

Baarish Aane Se Pehle
Baarish Se Bachne Ki Taiyaari Jaari Hain
Saari Darare Band Kar Li Hain
Aur Leep Ke Chaath, Aab Chhatri Bhi Maadhva Li Hain
Khidki Jo Khulti Hain Bahar
Uske Upar Bhi Ek Chajja Kheench Diya Hain
Mein Sadak Se Hokar, Darwaze Tak Aata Raasta
Baajri – Mitti Dal Ke Usko Koot Rahe Hain !
Yahi Kahi Kuch Gaddho Mein
Baarish Aati Hain To Paani Bhar Jata Hain
Jutte Pavh, Pavche Sab San Jate Hain

Gale Na Padh Jaye Satrangi
Bheeg Na Jaye Badal Se
Saawan Se Bachkar Jeete Hain
Baarish Aane Se Pehle
Baarish Se Bachne Ki Taiyaari Jaari Hain

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *