Ek Purana Mausaam Lauta Lyrics (Gulzar Poems Hindi)

एक पुराना मौसम लौटा | Ek Purana Mausaam Lauta (Lyrics) – Beautiful Poem (Nazm) by Gulzar in Hindi

Ek Purana Mausaam Lauta याद भरी पुरवाई भी
ऐसा तो कम ही होता है वो भी हों तनहाई भी
यादों की बौछारों से जब पलकें भीगने लगती हैं
कितनी सौंधी लगती है तब माज़ी की रुसवाई भी
दो दो शक़्लें दिखती हैं इस बहके से आईने में
मेरे साथ चला आया है आपका इक सौदाई भी
ख़ामोशी का हासिल भी इक लम्बी सी ख़ामोशी है
उन की बात सुनी भी हमने अपनी बात सुनाई भी

‘Ek Purana Mausaam Lauta Lyrics’ – Poetries of Gulzar in Hindi

Ek Purana Mausaam Lauta Yaad Bhari Purvaaie Bhi
Aisa To Kum Hi Hota Hain Wo Bhi Ho Aur Tanhaiyee Bhi
Yaado Ki Bauchaaro Se Jab Palke Bheegne Lagti Hain
Kitni Saundhi Lagti Hain Tab Majhi Ki Rusvaiee Bhi
2 – 2 Shakle Dikthi Hain Is Beheke Se Aaiyene Me
Mere Saath Chala Aaya Hain Aapka Ek Saudayee Bhi
Khamoshi Ka Hasil Bhi Ek Lambi Si Khamoshi Hain
Unki Baat Suni Bhi Humne Apni Baat Sunayee Bhi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *