Nagpanchami Wishes 2019 | नागपंचमी क्यों मनाते हैं ?

Why Nagpanchami is Celebrated in India ? नागपंचमी क्यों मनाई जाती हैं ?



भारत देश में Nagpanchami का त्यौहार श्रावण महीने में चंद्रग्रहण के पाँचवे दिन मनाया जाता हैं। इस साल Nagpanchami का त्यौहार 5 August 2019 को मनाया जायेगा। हिंदू धर्म में सर्पों का बहुत बड़ा महत्व हैं। हिन्दुओ के बहुत सारी पुरातन कहानियो में सर्पों का बड़ा उल्लेख हैं। लेकिन सबसे प्रसिद्द विष्णुजी के शेषनाग की कहानिया हैं। Nagpanchami के त्यौहार पर लोग सर्पों का दूध से अभिषेक करते हैं और उनकी पूजा करते हैं। कही जगह पर सापो को दूध भी पिलाया जाता हैं। Nagpanchami के दिन कही जगा पर तो खेतो में हल भी नहीं चलाया जाता हैं।

भारत देश में Nagpanchami त्यौहार मानाने के पीछे बहुत साडी पुरातन कहानिया हैं। एक कहानी ऐसी हैं की, एक बार एक किसान ने खेत में हल चलाते समय गलती से बहुत सरे नन्हे सर्पों को कुचल कर मार दिया। उन नन्हे सर्पो की माँ ने बदला लेते हुये उस किसान को काट लिया और उसे मार डाला, साथ ही उस मादा सर्प ने उस किसान के सरे परिवार वालो को भी मार डाला, सिवाय एक छोटी बच्ची के। कहते हैं की वो छोटी बच्ची हररोज महादेव और सर्पो की पूजा करती थी। सर्पो के आराध्य महादेव होने के कारन उस मादा सर्प ने उस छोटी बच्ची की जान नहीं ली थी। तभी से ऐसी मान्यता हैं की Nagpanchami के दिन सर्पो की पूजा करने से सर्प कभी हमे दंश नहीं करते और हमारे कुंडली से सर्पदोष भी निकल जाता हैं।

दूसरी मान्यता ऐसी भी हैं की, जब भगवन श्रीकृष्ण वृन्दावन में रह रहे थे तब वहा यमुना नदी में एक ‘कालिया’ नामक महाकाय सर्प रहता था। कालिया, यमुना नदी में गरुड़ पक्षी से बचने के लिए छुपा था और वहा अपना घर बना लिया था।  कालिया ने अपने विष से यमुना नदी का पानी विषैला बना दिया था ताकि कोई उस नदी के समीप न आ सके। एक बार कृष्णा और उसके साथी यमुना नदी के तट पर खेल रहे थे और तभी कालिया सर्प ने कृष्णा को जकड लिया, श्री कृष्णा फिर अपने वास्तिवक अवतार में आ गए और उस महाकाय सर्प से भी बड़े हो गए। श्रीकृष्ण ने फिर कालिया सर्प के सर पर खड़े होकर अपनी लीला शुरू की और अपने पैरो से कालिया के मस्तिष्क पर मारने लगे। यह देख कालिया सर्प की पत्नी ने श्रीकृष्ण से क्षमा मांगी और अपनी पति को जीवनदान देने की भिक मांगी। श्रीकृष्ण ने कालिया को क्षमा कर दिया और यमुना नदी को छोड़ जाने और अपना संपूर्ण विष खींच लेने को कहा। तभी कालिया ने कहा की, अगर में यमुना नदी से चला जाऊंगा तो गरुड़ पक्षी मुझे मार देगा। तभी श्रीकृष्ण ने कहा, मेरे पैरो के निशान तुम्हारे मस्तिष्क पर चाप गए हैं और यह देख गरुड़ पक्षी तुम्हे नहीं मार सकते, क्यूंकि गरुडो के आराध्य स्वयं विष्णु जी हैं। इस तरह कालिया सर्प वहा से चला गया। यह लीला Panchami के दिन हुई थी और तभी से इसे Nagpanchami के त्यौहार के रूप में मनाया जाता हैं।

भारत देश में सर्पो की बहुत बड़ी मान्यता होने के कारन पुरे भारत वर्ष में नागदेवता के बहुत सारे मंदिर मौजूद हैं। Nag panchami के दिन इन मंदिरो में लोगो की बड़ी भीड़ जमा होती हैं। लोग नागदेवता की पूजा करते हैं और उनसे आशीर्वाद लेते हैं। अगर आप भी अपने दोस्तों या फिर परिवार वालो को Nagpanchami की शुभकामनाएं देना चाहते हैं तो हमने आप ही के लिए इस संग्रह को बनाया हैं। आप अपने प्रिय जनो को Happy Nagpanchami Wishes, Happy Nagpanchami Greetings, Happy Nagpanchami Images भेज सकते हैं और उन्हें नागपंचमी की बधाइयाँ है।


Nagpanchami Images, Greetings

 

happy nag panchami image
Nag panchami Image

 

happy nag panchami image
Nag panchami Image

 

happy nag panchami image
Nagpanchami Image




happy nag panchami image
Nagpanchami Image

 

happy nag panchami image
Nag panchami Greeting

 

happy nag panchami image
Nagpanchami Pooja




Nagpanchami
Nag panchami Greeting

 

Nagpanchami
Nagpanchami Greeting

 

Nagpanchami
Nag panchami Greeting




Nagpanchami
Nagpanchami Greeting

 

Nagpanchami
Nag panchami Greeting
Also Read : Good Morning SMS in Hindi | Good Morning Wishes
Also Read : Funny Hindi Status | हंसी रोक नहीं पाओगे

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *