Nazm Uljhi Hui Hai Lyrics (Gulzar Poems)

नज़्म उलझी हुई है | Nazm Uljhi Hui Hai – Beautiful Nazm by Gulzar in Hindi

नज़्म उलझी हुई है सीने में
मिसरे अटके हुए हैं होठों पर
उड़ते-फिरते हैं तितलियों की तरह
लफ़्ज़ काग़ज़ पे बैठते ही नहीं
कब से बैठा हुआ हूँ मैं जानम
सादे काग़ज़ पे लिखके नाम तेरा
बस तेरा नाम ही मुकम्मल है
इससे बेहतर भी नज़्म क्या होगी

‘Nazm Uljhi Hui Hain Lyrics’ – Gulzar Poem in Hindi

 

Nazm Uljhi Hui Hai Seene Mein
Misre Aatke Hue Hai Honto Par
Udte- Firte Hai Titliyon Ki Tarah
Lafz kagaz Pe Baithte Hi Nahi

Kabse Baitha Hua Hu Mein Janam
Saade Kagaz Pe Likh Ke Naam Tera
Bas Tera Naam Hi Mukammal Hai
Isse Behetar Bhi Nazm Kya Hoga

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *